निःशब्द प्यार

Artee priyadarshini

निःशब्द प्यार
(268)
पाठक संख्या − 7819
पढ़िए

सारांश

बात उन दिनों की है जब हमारे हाथों में मोबाइल नया नया हीं आया था। तब हमें फोन करने और मैसेज करने में आश्चर्यजनक आनंद का अनुभव होता था। ब्लैक एंड वाइट मोबाइल भी हमें सपनों की रंगीन दुनिया में ले जाता ...
Jyotsna Kumar
nice post
रिप्लाय
हुमा सिद्दीक़ी
aajkl k zamne Mai aesa pyar nhi hota.
रिप्लाय
pankaj Agarwal
प्यार निशब्द ही होता हैं।
रिप्लाय
usha singh
behad khubsurat rachna h
रिप्लाय
Pushpa Bisht
अति सुंदर
रिप्लाय
Happysingh Ara
Awesome
रिप्लाय
Dr. Deepa agrawal
bht acchi kahani....itna pyar koi kaise kr sakta h...pyar sach me aisa hota h... lajabab👍👍👌👌
रिप्लाय
शैहला अंस।री
शानदार रचना
रिप्लाय
Soniya Anand
behtreen 👌👌👌👌
रिप्लाय
Priti Gupta
Maine aaj tk isalive story nhi PDA tha .sabd km h tarif me
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.