नानी तो.

आशा सिंह गौर

नानी तो.
(178)
पाठक संख्या − 11286
पढ़िए

सारांश

ऐसी मान्यता है कि बड़े बुज़ुर्गों की आत्मा हमेशा हमारी रक्षा करती हैं और इस दुनिया से जाने के बाद भी अपने बच्चों की हिफाज़त करती है। इसी पर आधारित है मेरी कहानी, "नानी तो..."
Itika Soni
aapko sabhi suspance clear karne chahiye the.......
chinky sharma
main b same feel kiya tha sach me
kumar gourav
end me apne suspense clear nhi kiya
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.