नानी तो.

आशा सिंह गौर

नानी तो.
(144)
पाठक संख्या − 9725
पढ़िए

सारांश

ऐसी मान्यता है कि बड़े बुज़ुर्गों की आत्मा हमेशा हमारी रक्षा करती हैं और इस दुनिया से जाने के बाद भी अपने बच्चों की हिफाज़त करती है। इसी पर आधारित है मेरी कहानी, "नानी तो..."
aps raj
love is god. Keep it up.
Priti Mithaulia
absurd...... n.... incomplete
Manish Pandey 'Rudra'
अच्छा प्रयास
Mayank Rai
horror but incomplete...
Pulkit Jain
You bring everything so far
Monika Kaushik
Bahut romanchic kahaani
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.