नाटक

नैनी ग्रोवर

नाटक
(58)
पाठक संख्या − 2999
पढ़िए

सारांश

हाय माँ.. ठोकर लगते ही मनकू को दर्द की वो तेज लहर उठी के माँ याद आ गई, अपने ही मुँह से माँ शब्द निकलता सुन मनकू खुद से ही शर्मिंदा हो गया, अभी महीने भर की ही तो बात है, जैसे ही थके हारे मनकू घर के ...
Ritu Pant Madhwal
saral bhasha m sbk sikhati hue rachna
Tripti Singh
mother in law ki ye soch end mein sirf kahani mein badal sakti hai real life mein nahi
Ritu singh
very nice story, giving lesson to our elders and their greedy children. keep writing good motivational story.
Vimal Singh Rajput
प्रेरणा दायक कहानी
Janvi Singh
sahi kiya... nice story..
Ravinder Kumar
Lajawaab👍
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.