नागपाश

योगिता यादव

नागपाश
(218)
पाठक संख्या − 15746
पढ़िए

सारांश

''कृष्ण पक्ष समाप्त हुआ, अब चांद के घटते जाने की पीड़ा से निजात मिलेगी 'परी'। नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाएं।' मेरी जानी पहचानी आवाज ने मुझसे फोन पर बस इतना कहा और यह कहकर फोन रख दिया कि वह एयरपोर्ट ...
Anu Tanwar
Anu Tanwar
दिल को छू गयी ये कहानी सच में❤️🙏 और क्या अनुभव को भी वही सब महसूस हो रहा था जो परी ने महसूस किया उस शाम के बाद!!!
Anita Rathod
बहुत खूबसूरत। कहीं न कहीं औरत की ख्वाहिशें अधूरी रह जाती है। बहुत कुछ होकर भी कुछ नहीं दे पाती। 👌👌👌👌
Satendra Kumar
अपरिभाषित
Geeta Geet
बेहद खुबसूरत कहानी जो मेरे मन को परत दर परत खोलती चली गई , पर मेरी मुक्ति ????
Lalita Vimee
vry touching story mam.
Mahendra Bahubali
दर्द भरी कहानी
Dev Tiwari
बहूत सून्दर रचना👌👌👌
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.