नहीं

Om Shankar

नहीं
(37)
पाठक संख्या − 1298
पढ़िए

सारांश

" नहीं "    रती अपने पति से कहे जा रही थी -' मैने कभी भी उसका नाम नही लिया और न हीं कभी लेने की जरूरत आन पड़ी लेकिन ये भी सत्य है कि उसके पूरे खानदान को जानती हीं ...
Lalita Vimee
गहराई को समेटे एक उम्दा रचना।।
रिप्लाय
Kiran Singh
बड़िया
रिप्लाय
Rakesh Kumar chaurasia
good
रिप्लाय
Sudhir Kumar Sharma
अद्भुत
रिप्लाय
मीरा परिहार
उच्च स्तर की हे,समझ नहीं आयी
रिप्लाय
kuldeep singh
लाजवाब कथाकार हैं आप।वैसे तो कहानियों में मुझे ज्यादा रुचि नहीं है, किंतु इस तरह की छोटी कहानियों को कोई नजरअंदाज नहीं कर सकता है।
रिप्लाय
nafis
bahut accha likha
रिप्लाय
indu sharma
nice
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.