नशा एक अभिशाप है।

Mankchand bhadu

नशा  एक अभिशाप है।
(29)
पाठक संख्या − 60
पढ़िए

सारांश

जानते सब हैं।नशा जान ले लेगा एक रोज उनकी, फिर भी अनजानौ की तरह  नशा कर रहे हैं।, दिल के हरे बगीचेको नशे के हवाला कर भूल गये, इसी  नशे की वजह से भारी तादाद मे मर रहे हैं लोग, काश कि वो समझ पाते उनको ...
Hari ram V
नशा मुक्ति अभियान ,रचना सारगभित है।धन्यवाद सहित.।
Usha Srivastava
बढ़िया प्रस्तुति
Ravi Sawarkar
बेहद खुब ... पर मै नशा भी करता हु कभी कभी 😪
Shreya
bhaut aacha likha aapne ☺️.aise hi likhte rahiye.👍
Vipul Kadia
absolutely correct 👍
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.