नव्या

jai prakash prajapati

नव्या
(92)
पाठक संख्या − 16309
पढ़िए

सारांश

सुबह के 3:30 बज रहे थे, कि अचानक जय के मोबाइल पर मेसेज रिंग बजी। जय वैसे तो नींद का पक्का खिलाडी था, पर आज उसकी सपनो से भरी नींद इस छोटी से मेसेज ट्यून के साथ खुली। उठकर देखा तो नव्या के दो मेसेज। ...
Chanchal Kumar
bhaut sundar
रिप्लाय
Parul Sharma
something is incomplete.
ANITA SHARMA
अति सुन्दर इस प्रकार की और कहानियाँ लिखें
रिप्लाय
Shakuntala Kothari
कहानी की भाषा शैली बहुत अच्छी।
Indira Choudhary
बहुत ही प्यारी कहानी
रिप्लाय
Asha garg
wow ! very beautiful story with happy ending 👌
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.