नया सवेरा

अमिताभ कुमार "अकेला"

नया सवेरा
(3)
पाठक संख्या − 27
पढ़िए

सारांश

निराशाओं का बादल जैसे छँट चुका था और आशाओं की लालिमा भीतर तक प्रकाशमान थी। ऐसा लग रहा था - मानो बंगलोर की नयी सुबह के साथ जीवन में नया सवेरा होने ही वाला था…......
Poonam Singh
अच्छी प्रेरनात्मक कहानी।
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.