नया सवेरा

Vanshu Vinesh

नया सवेरा
(97)
पाठक संख्या − 9182
पढ़िए

सारांश

किस प्रकार एक सास अपनी बहु के साथ हर मुश्किल में खड़ी रह कर उसको कामयाब बनाती है।इस कहानी के माध्यम से सास बहु का आपसी तालमेल बताना चाहती हूँ।
DEEPTI JAIN
end should not have been like that...she is a woman of today n should hv self respect..
Meena Bhatt.
आप को अच्छी रचना लिखने के लिए धन्यवाद।☺️💐👌👌
Anshul
ldkio jadake sat jada ldke asa he krte h jo ldke pdhlete h
Fahmina Abidi
Neha ne apne pati ko shayad apni saas ke liye maaf Kar diya aur apna liya per Dil me ayi daraar itne asaani se ni jati
Anupma Tiwari
माफ करियेगा। परन्तु हर कहानी का अंत ऐसा सकारात्मक नही हो सकता। पति अपनी पत्नी के अफसर बनने पर उसके पास माफी मांगने आया है। ऐसे पुरुष पर किस प्रकार विश्वास किया जा सकता हैं।
Bhavna Bhargava
ye sirf kahaniyo me hota h.....hakikat me nahi...
Sunita Kumari
sundar
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.