नई सुबह

शिल्पी रस्तोगी

नई सुबह
(169)
पाठक संख्या − 13772
पढ़िए

सारांश

स्ुाुबह से अब तक यह रोली की 10 वीं काॅल थी लेकिन रमित को फोन नहीं उठाना तो नहीं उठाया। रोली उसकी पत्नी उसे पहले भी नापसंद थी लेकिन जैसे तैसे वह इस रिष्ते को निष्ठा से निभाता चला आ रहा था,लेकिन आॅफिस ...
Meena Bhatt.
जैसे को तैसा 👌👌
रिप्लाय
Shashi Upadhyay
very nice story.u.r.good.writer
रिप्लाय
jitendra
isko kehte hain nahle pe dahla
रिप्लाय
मनमोहन कौशिक
बढ़िया
रिप्लाय
NEHA SHARMA
nehle pe dehla...
रिप्लाय
Sanjeet Bajpai
अच्छा है, भूत उतर चुका था
रिप्लाय
Anshul
very nice story
रिप्लाय
Praveen Kumar Shrivastava
सही कदम लेकिन गलत तरीका
रिप्लाय
Gaurav Rastogi
nice story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.