नई राह

op gondule

नई राह
(7)
पाठक संख्या − 27
पढ़िए

सारांश

वह रिटायर हो चुका था......चार साल पहले l बड़ी-सी कोठी थी उसकी........ जिसमें एक शानदार बगिया आबाद थी l मगर इस आलिशान जगह में यदि उसका कोई साथ निभा रहा था तो वह थी उसकी तनहाई...... खामोशी से लबालब ...
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.