धोखा

कल्पना जोशी

धोखा
(30)
पाठक संख्या − 9356
पढ़िए
सुनील वर्मा
सार्थक लेखनी. कहानी में निहित सवाल का जवाब, हम सबसे चाहिए.
रिप्लाय
सरिता भारती
ऐसे लोंगो के अंधविश्वास की वजह से बाबाओं का कारोबार चलता है,और लोग अपना सब कुछ खो देते है
रिप्लाय
Keshav verma
हिन्दू समाज क़ी गंदगी को सटीक शब्दों से अभिव्यक्त किया है आपने । आपका लेखन अच्छा है।
रिप्लाय
Anjali Chopra
instead of running please try to face the problem it's a suggestion only please try to give women taking bold decision bcoz ur story can help others... it's a nice one
रिप्लाय
Tugana Tugana
Ghatiya khani. Waste of time.
VIbha Bhatnagar
Dhokha tor deta hai Insaan ko
sachin chauhan
Ek shekh deti Hui Rachna ...Nice
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.