धुंधली रात

निजा

धुंधली रात
(130)
पाठक संख्या − 16267
पढ़िए

सारांश

रात के दो बजे - ( रोहन उसकी बीवी सोनल और मैं उसके घर पर ) " कुछ पता नहीं चल रहा यार, माया ने अचानक से? दीपक को पता भी नहीं चला .. वो इतनी परेशां थी ..जबकी दोनों एक साल से एक साथ रह रहे हैं .." " और ...
Rajesh Kumar
madam ji , koi sir pair nahin kshani mein , aap kyun hum logon ks time waist karte ho??, please koi dhang ki kahani likha karein
Dharmendra Bhatt
story kya he yahi pata nahi chal raha.
Rajan Kumar
arey bhai kehna kya chahatay ho
Shilpy Choudhary
iss kahani mein uss aadmi KO future dikha ta ki kuch der or ruka to vo maya k sath kuch galat krdega ... jinko smjh nahi aai vo beakkal h..
ATUL SOAM
nice story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.