धारावाहिक उपन्यास मैं था मैं नहीं था -भाग - 01 !

विश्वनाथ शिरढोणकर

धारावाहिक उपन्यास मैं था मैं नहीं था -भाग - 01 !
(1)
पाठक संख्या − 132
पढ़िए

सारांश

विश्वनाथ शिरढोणकर के मूल मराठी उपन्यास का स्वयं लेखक द्वारा किया गया हिंदी अनुवाद - मै था मैं नहीं था - आज से प्रतिलिपि पर धारावाहिक दिया जा रहा हैं I आज पढियें पहली किश्त जिसमें मूल मराठी में प्रसिद्ध साहित्यिक श्री भारत सासने की प्रस्तावना , प्रसिद्ध लेखक श्री सूर्यकांत नागर की भूमिका और स्वयं लेखक द्वारा लिखी गयी प्रस्तावना . यह धारावाहिक उपन्यास पुणे के शब्दवैभव प्रकाशन द्वारा प्रकाशित किया गया हैं और पाठकों के लिए यहाँ साप्ताहिक रूप में पोस्ट किया जावेगा I शुभकामनाएं !
रचना पर कोई टिप्पणी नहीं है
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.