धनिया पूजा आई,पी,एस,

महेन्द्र सिंह

धनिया पूजा आई,पी,एस,
(228)
पाठक संख्या − 10780
पढ़िए

सारांश

"भगत ओ बाबू भगत"। "काहे आसमान सिर पर उठाये हो चौधरी।गांव में क्या बाढ़ आ गई जो इतना चीख रहे हो।" "बाढ गई भाड़ में।मैं यह कहने आया था कि तेरी छोरी पूजा औऱ मेरी छोरी रूपा ने बारहवीं कक्षा अच्छे नंबरों ...
neeta
good story
रिप्लाय
Mamta
बहुत बढ़िया
रिप्लाय
aradhana
nice story
रिप्लाय
Nisha Gahlawat
very inspirational story ......mind blowing sir... sacrifice of a lady n mother ...superb!!!
रिप्लाय
Dr Kamal Satyarthi
Causing tears in the eyes. Very nice story. your pen has a power.
रिप्लाय
Mukesh Verma
बहुत सुन्दर प्रेणणा दायक रचना
रिप्लाय
Anuradha Narde
anth Bhala to sab bhala
रिप्लाय
Uma Shrivastav
एक माता को नमन है तथा महेन्द साहब कहनी बहुत मार्मिक है
रिप्लाय
Ramesh Chandra
very good story .
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.