दो बाँहें, एक गंध और ख़ालिस रोमांस

रजनी मोरवाल

दो बाँहें, एक गंध और ख़ालिस रोमांस
(156)
पाठक संख्या − 19478
पढ़िए
Pritam Kumar Singh
बेहतरीन, मुझे तो लगा अब ये कहानी खत्म ही न हो 😊
Vinitaविनीता Singhसिंह
बहुत उम्दा मैं तो बस डूब गई ।मुझे लग रहा था मैं अपनी पसंदीदा लेखिका की कहानी पढ़ रही हूँ ।गौरा पंत शिवानी जी इसी प्रकार लिखती थी कहानियां । बहुत बधाई बहुत अच्छी कहानी है आप की
शिल्पी रस्तोगी
कुछ कही सी कुछ अनकही सी, खूबसूरत से एहसास से भिगोती कहानी 👌
mukesh nagar
बढियाँ कहानी👍👍
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.