दो दिलों को पूरा करे..वही तो इश्क़ है...

सिमरन जयेश्वरी

दो दिलों को पूरा करे..वही तो इश्क़ है...
(225)
पाठक संख्या − 11917
पढ़िए

सारांश

रात का गहरा अंधेरा। सड़क के आस-पास लगे बड़े-बड़े खंभो पर बड़ी-बड़ी स्ट्रीट लाइट्स। गहरा सन्नाटा जिसमे शांत खड़े व्यक्ति को उसकी सांसे भी साफ तौर पर सुनायी दे जाए। बेधड़क सी श्रेया अपनी महंगी ऑडी को दौड़ाए जा ...
gagan
bbt achi lagi. 2nd part ka intjar h
रिप्लाय
Anand Parkash Aggarwal
अति सुंदर लेख
रिप्लाय
Neetu Gambhir
कहानी की शुरुआत मे ही बता देना चाहिए कि कहानी किसतों मे आगे बढ़ेगी..उसके बाद जो उसे पढना चाहे तो पढ़े..नहीं तो नहीं..
रिप्लाय
Sonali Joshi
what next
रिप्लाय
Shagufta Mansoor
2nd part kb ayenga mje wait rhenga
रिप्लाय
jamana
10
रिप्लाय
Ranjeet Kumar Barnawal
good
रिप्लाय
Arc Raj
achi kahani par badi jaldi end kar diya
रिप्लाय
Vidhi Agrawal
You're really a good author and good person.
रिप्लाय
Monika Jibhenkar
i am eagrly waiting for 2 part
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.