दो दिलों को पूरा करे..वही तो इश्क़ है..(चैप्टर- 2)..

सिमरन जयेश्वरी

दो दिलों को पूरा करे..वही तो इश्क़ है..(चैप्टर- 2)..
(110)
पाठक संख्या − 10746
पढ़िए

सारांश

रात का गहरा अंधेरा। सड़क के आस-पास लगे बड़े-बड़े खंभो पर बड़ी-बड़ी स्ट्रीट लाइट्स। गहरा सन्नाटा जिसमे शांत खड़े व्यक्ति को उसकी सांसे भी साफ तौर पर सुनायी दे जाए। बेधड़क सी श्रेया अपनी महंगी ऑडी को दौड़ाए जा ...
Simpy Vishnoi
I like your writing skill
रिप्लाय
संतोष नायक
शानदार शुरुआत। श्रेया का बातचीत का अंदाज बहुत पसंद आया।
रिप्लाय
Md. Jamshed
next part please
रिप्लाय
Astha Jain
आप सच में एक professional writer की तरह लिखती हैं।
रिप्लाय
Divyansh Singh
बहुत खूब
रिप्लाय
sunny
badhiya
रिप्लाय
chitra
gr8 story
रिप्लाय
Saira Parvez
very nice
रिप्लाय
Radheyshyam Jakhar
nice
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.