दृव्य दृष्टि- एक रहस्य 5

दिनेश कुमार दिवाकर

दृव्य दृष्टि- एक रहस्य 5
(55)
पाठक संख्या − 3689
पढ़िए

सारांश

एक मिनट अगर तुम दिव्या हो तो ये कौन है- प्रेम हैरानी से पूछा, दिव्या लगड़ाते हुए प्रेम के पास आकर बोली-वो मेरी बहन है दृष्टि हम दोनों जुड़वां बहनें हैं दृव्या और दृष्टि। प्रेम- तो ये दृष्टि है तो ये मुझसे शादी करना क्यो चाहती है। दृष्टि- क्योंकि मैं तुमसे प्यार करती हूं और........
Rishabh Shukla
nice
रिप्लाय
sunny
interesting
रिप्लाय
Rajwinder Kaur
Very nice
रिप्लाय
Ritu chandak
Very nice story, I m very much fond of horror stories, waiting for next part...
रिप्लाय
Shagufta Mansoor
sweet ed nice story
रिप्लाय
Poonam Khatri
achhi kahaani h agla bhag ksb aayega
रिप्लाय
Naeema Ali
very nice
रिप्लाय
krishna mane
nice twist..👍👍 keep it up
रिप्लाय
Hafeez Khan
बहुत ही अच्छी स्टोरी है अगले भाग का इंतज़ार रहेगा
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.