दृव्य दृष्टि- एक रहस्य 2

दिनेश कुमार दिवाकर

दृव्य दृष्टि- एक रहस्य 2
(103)
पाठक संख्या − 5879
पढ़िए

सारांश

मैं बस से उतरने ही वाला था कि किसी ने मुझे धक्का दिया मैं निचे गिर पड़ा, मैं पिछे मुडकर देखा तो वहां कोई नहीं था तभी उस बस को एक ट्रक ने टक्कर मारा और वह बस खाई में जा गिरा मैं सोच रहा था कि उसने मुझे बचाया या
rosan Kumar
बहुत सुंदर
Divakar
बहुत सुंदर
amrita rani
very interesting
रिप्लाय
Raj vir
wow dish story is very very interesting
रिप्लाय
Rishabh Shukla
nice
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.