दूसरी औरत

रंजना जायसवाल

दूसरी औरत
(33)
पाठक संख्या − 1196
पढ़िए

सारांश

यह सच है कि दूसरी औरत को भारतीय समाज ने अभी तक मान्यता नहीं दी है,फिर भी दूसरी स्त्री सदियों से समाज का हिस्सा रही है |साहित्य,संगीत,कला,फिल्म जैसे क्षेत्रों में तो कई ऐसे पुरूष-नाम हैं ,जिनके जीवन ...
Notion Pad
स्त्री के चरित्र के संतुलन पर अच्छा चित्रण किया। धन्यवाद
sugandh yadav
कोई भी सम्बेदनशील स्त्री अपने प्यार को बंटा हुआ नहीं देख सकती।। ये पँक्तियाँ सही हैं।।पर पूरी तरह से सही नहीं कही जा सकती।।।
Avnindra singh
पर औरत भी दोषी होती हैं, कहीं न कहीं,
sarika patel
सटीक चित्रण,, दूसरी औरत का
Pruthviraj rajput
मेरी 4 मुस्लिम गर्लफ्रैंड है , मतलब ये हम जैसे लोगो के लिए विरोधी लेख है 😠😠😠😠
Veenu Jii
बहुत ही लाजबाब लिखा है आपने,,,,,,, आज वर्तमान की सबसे बड़ी समस्या पर बहुत ही करारा लिखा है आपने,,,
रिप्लाय
anil gupta
kafi achhe se btaya aap ne
रिप्लाय
Sutapa Sen
Bitter truth of life very well written and point out all situations of life
रिप्लाय
Garima Singh
vicharniya....sateek....
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.