दूर की सोच

आशीष कुमार त्रिवेदी

दूर की सोच
(61)
पाठक संख्या − 4143
पढ़िए

सारांश

वकालत के पेशे में ह्रदय नारायण ने अभी पहचान बनानी शुरू ही की थी। कुछ दिनों पहले ही उन्होंने एक नामी मुवक्किल का केस जीता था। केस पेचीदा था और उनके मुवक्किल की प्रतिष्ठा से जुड़ा था। इसलिए वह केस जीत ...
अरविन्द सिन्हा
अच्छे काम के लिए जोख़िम उठाने को प्रेरित करती सुन्दर कहानी । साधुवाद ।
Anjani Tiwari🇮🇳
👍🏻👍🏻👍🏻👍🏻
रिप्लाय
संतोष कुमार
क्या कहानी लिखे ।लाजवाब दिल खुश हो गया पढकर। लेखनिय की गजब अनुभव सर।
shailbalakejriwal shailbalakejriwal
samay ka kadua sach...aaj bachhono ki mansikata ne bujurgono ko bhavishya me anichhaya ki sonch ka -- uphar de rahe h...
रिप्लाय
Arun Sewak
आज के जीवन का कटु सत्य है यह
रिप्लाय
Malti Tripathi
वर्तमान सामाजिक परिवर्तन का चित्रण एवं बच्चों की माँ बाप के प्रति निष्ठुरता दिखी ।कहानी दिल को छू गयी ।
रिप्लाय
लायबा अंसारी
kahani bht achchi or sachchi si hy mgr kuch adhuri hy.......boodhy vyakti ko nyaye mila or dhokebaz bete ko ssza tab hi kahani ka uddeshya pura hota
Pratik F Bramhane
very hard touching lines very nice
रिप्लाय
Chhaya Srivastava
कड़वी सच्चाई
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.