दूर की सोच

आशीष कुमार त्रिवेदी

दूर की सोच
(36)
पाठक संख्या − 3188
पढ़िए
Pawan Pandey
बूढ़े आदमी को न्याय पाते बताया नहीं गया जो कि आवश्यक लगता है
रिप्लाय
Shalini Vashisth
nice
रिप्लाय
Itika Soni
बहुत सही लिखा आपने........👍👍👍👍
रिप्लाय
Rameshpari R Gosesmi Rameshpari
khani puri nhi likhi gyi baki kiyu hey aage nhi clti
Savita Mishra
samay ki mag
रिप्लाय
Dasharath Patel
nice
रिप्लाय
Anju Chouhan
bahut sahi
रिप्लाय
Gaurav Gangwar
nyc
रिप्लाय
Chunni Asnani
Ati sunder...... Ye aaj ki zarurat hai unke liye jo maa baap ko bojh samjhte hai
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.