दुल्हन के पिता का तोहफा #ओवुमनिया

नीरज शर्मा

दुल्हन के पिता का तोहफा #ओवुमनिया
(236)
पाठक संख्या − 13429
पढ़िए

सारांश

अरे क्या बताऊँ बहन जी, हमने तो सोचा था कि समधी जी अपनी इकलौती बेटी को खूब अच्छे से विदा करेंगे पर हमें क्या पता था कि वो इतने कंजूस है - रीना ने मुँह बनाते हुए कहा। और नहीं तो क्या जीजी, कौन सी उनके ...
Vijaykant Verma
बेहतरीन कहानी..💐💐
रिप्लाय
poonam chauhan
औरत ही औरत की दुश्मन हो जाती हैं,पता नही ये दहेजप्रथा कब खत्म होगी
सरोज
बहुत ही बेहतरीन व उम्दा रचना।
रिप्लाय
Sarla Tiwari
बहुत अच्छी कहानी। दहेज के लोभियो को सही समय पर सही जवाब दिया ।
रिप्लाय
Maanvik Rawat
बहुत सुंदर कहानी
रिप्लाय
anshita chaturvedi
👌👌बढिया कहानी
रिप्लाय
Geeta Pandole
Nice story
रिप्लाय
Sangita Ajmera
sahi jawab diya h
रिप्लाय
Mala Bagga
👍
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.