दीवार ढह गई

अलका प्रमोद

दीवार ढह गई
(11)
पाठक संख्या − 2543
पढ़िए

सारांश

विषाल ने आखें खोलीं तो स्वयं को अस्पताल के बेड पर पाया । वह समझने का प्रयास कर रहे थे कि कहां पर हैं और कैसे यहां आये। विषाल ने मस्तिष्क पर जोर डाला तो उन्हे स्मरण हुआ कि जब वह सामान ले कर अपनी गाड़ी ...
Kamini Dubey
Bahut badhiya
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.