दिल

मनमोहन भाटिया

दिल
(124)
पाठक संख्या − 9646
पढ़िए

सारांश

वातानुकूलित दफ्तर में 20 डिग्री तापमान में ओम चड्ढा को पसीने छूटने लगे। ओम चड्ढा बेचैनी महसूस करने लगे। कुछ गड़बड़ है। फ़ोन पर सेक्रेटरी को बुलाया। सेक्रेटरी फौरन केबिन में उपस्थित हो गया। "जी सर।" ...
Rajeev Srivastava
भूल सुधार
रिप्लाय
Swarn Lata Purohit
nice story👏👏👌👌👌👌👌👌,jb jage tbhi savera
रिप्लाय
Dr Deepayan Choudhury
सुखद अंत ,अच्छा लगा पढ़कर
रिप्लाय
Aaditya Aadi
Kahani acchi hone ke sath bahut kuch Sikh bhi de gyi
रिप्लाय
Sudha Singh
ncy story
रिप्लाय
सुभाष कैम
ह्रदय स्पर्श करके आँखे भी नम कर दी।
रिप्लाय
Mamta Agrawal
ati sunder
रिप्लाय
Brijesh Gupta
A Heart touching Story .. Brilliant
रिप्लाय
रूहेला सागर
super sir
रिप्लाय
JP Singh
Ati sunder bhout he ache kahani
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.