दिल बहलाव

पंडित बाल कृष्ण भट्ट

दिल बहलाव
(3)
पाठक संख्या − 137
पढ़िए

सारांश

एक पंडित जी अपने लड़के को पढ़ा रहे थे 'मातृवत् परदारेषु' पर स्‍त्री को अपनी माँ के बराबर समझे। लड़का मुर्ख था कहने लगा। तो क्‍या पिता जी आप मेरी स्‍त्री को माता के तुल्‍य समझते हैं? पिता रुष्ट हो ...
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.