दिल का खाली कोना

शिवम विनायक

दिल का खाली कोना
(317)
पाठक संख्या − 20546
पढ़िए

सारांश

२ दिन पहले ब्याह कर आई छोटी बहु का घर में दूसरा ही दिन था।आँख खुली तो देखा 9 बज रहे थे देर से जागने की वजह से उसे शर्मिंदगी महसूस हुई। खैर, तैयार होकर 1 घंटे में नीचे पहुंची जब तक निशा यानि गीतिका की ...
Amit Saini
ek or Sundar khanai pd mzaa aagya
ANUPMA TIWARI
अगर सभी दिल की जुबान समझ ले तो कोई क्यों अकेला रहे।
रिप्लाय
poonam soni
aaj ki real lyf m jyadatr sbke sath kuch esa hi hota h.ykhani us real lyf ka ek ehsaas h ...
RAWEL PUSHP
कहानी तो अच्छी है, लेकिन इसे लघुकथा नहीं कहा जा सकता। कहानी में थोड़ी और कसावट हो तो बेहतर .
Kumar Devashish
अच्छा लिखा आपने, शुभकामना। कहानी थोड़ी छोटी और कसी हुई हो सकती थी, कोशिश करें।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.