दास्तान

डॉ. इला अग्रवाल

दास्तान
(16)
पाठक संख्या − 339
पढ़िए

सारांश

कितनी बार कहा है आपसे कि दिन में कम से कम एक मैसेज तो कर दिया कीजिए वरना बेचैन हो जाती हूँ मैं .... बार-2 निगाहें फ़ोन पर जाती हैं और खाली लौट आती हैं😔 व्हाट्सअप पर लास्ट सीन तुरंत का देखना और मेरे ...
chanchala
इसी समझदारी और बहादुरी से सभी बेटियों को काम लेना चाहिए, बहुत अच्छी कहानी हैं,बहुत अच्छी।
रिप्लाय
Kamal Kant Agarwal
अच्छा है।इश्क़ की फीलिंग्स बहुत ताक़त वर होती हैं। कोशिश कीजिये कि इसे एक सुन्दर कहानी की शक़्ल दे सकें। जज़्बात अच्छे हैं, पर जुडाव कम हो पाता है, कुछ इश्क़ की कठिनाइयों के बीच परिस्थितियों के आगे झुक जाने या ऊं पर विजय पाने की कहानी आपको एक लेखक के रूप में ज्यादा बेहतर स्थापित कर सकती है। बाकी बेहतरीन है। सकारात्मकता बनाए रखिये।
रिप्लाय
निशान्त
प्रेमिका की अभिलाषा का अच्छा वर्णन है। लेकिन बीच-बीच में इमोजी और हैशटैग पाठकीयता घटा रहे हैं। साथ ही, आलेख की शुरुआत से लगा कि इसमें कोई सरप्राइज़ छिपा है, लेकिन फिर अचानक सब ख़त्म हो गया। किसी सन्देश की उम्मीद में अन्त तक गया था लेकिन वो दिखा नहीं। शायद सही से दिखाया नहीं गया। कोई संकोच रहा हो संभवतः। साथ ही एक नकारात्मक भाव भी आया। प्रेम सम्बन्ध से जनित असहायता। लगा मानो एकतरफा हो...प्रेमिका को लगातार रुसवा किया जा रहा हो और वो कमज़ोरी और डर के चलते उस रुसवाई में भी प्रेम की उम्मीद तलाशती हो। लेखक को लेखनी से पाठक को कोई सकारात्मक संदेश देना चाहिए। मसलन मैं इस आलेख में ऐसा कुछ करता कि प्रेमिका असहाय न दिखती। या फिर उसे प्रेमी के इस रवैय्ये से कुछ सीख दिलवाता। या फिर प्रेमी को मजबूर करता कि प्रेमिका जब बिल्कुल न एक्सपेक्ट करती, तब उसके फोन पर एक मैसेज टोन बजती और 5 इंच की उस फोन स्क्रीन में मोहब्बत की दुनिया चमक उठती और सब को हौसला मिलता। ख़ैर, बड़ी लम्बी प्रतिक्रिया हो गयी। औसत रेटिंग दी है अपनी असल भावना के तहत। अपनी कहानी पर अच्छी रेटिंग की अपेक्षा से नहीं। :)
रिप्लाय
Sushil Vishnoi
अदभुद...अति सूंदर.....
Neeraj Istwal
waah kya bat hai Doct ila..u touch the soul..有beautiful..
रिप्लाय
एमडी
हर एक अल्फ़ाज़ बयां करते है है कि ये मनगढ़ंत कहानी नही है। किसी दिल से निकले हुए एहसास है जज़्बात है जिसे बड़े खूबसूरत तरीके से अल्फ़ाज़ों में पिरो दिया गया है।
रिप्लाय
गोस्वामी अतुल गिरी
बहुत बढ़िया ✍️👌
रिप्लाय
स्नेह शर्मा
क्या बात है आपने तो सभी के दिलों को शब्द दे दिए हों। कृपया मेरी रचनाएं भी पढ़ें।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.