दास्ताने मौत और रात का सफर

शोभा शर्मा

दास्ताने मौत और रात का सफर
(276)
पाठक संख्या − 12415
पढ़िए

सारांश

जिंदगी का गणित कभी कोई नहीं समझ सका .जीने मरने की ईश्वरीय लीला को क्षुद्र इंसान कहाँ समझ पाया है .
Mohit Tiwari
जीवंत रचना सा ऐहसास होने लगा था पढ कर काफी रोचक कहानी बधाई।🙏
रिप्लाय
Sasha Sasha
nice
रिप्लाय
Sarika Yadav
good
रिप्लाय
Smriti Tyagi
good
रिप्लाय
अनीता स्नेहबंधन
लग ही नहीं रहा था कि कोई काल्पनिक कहानी है बहुत-बहुत सुन्दर
रिप्लाय
meena trivedi
बहुत ही अच्छी रचना है... आप अपनी कल्पना को बहुत सुंदर तरीके से शब्दों में पिरोती हैं...
रिप्लाय
Riya mittal
bht hi achi kahani likhi hai ji
रिप्लाय
स्वाती श्रीरामे
बहुत खूब और सफ़र करते हुए सावधानी बरतने की आवश्यकता को दर्शाती हुई सुंदर कहानी । खासकर अकेले सफर करते लोगों के लिए। 👌👌 ।
रिप्लाय
U K BURMAN
Bahot achi kahani hai.
रिप्लाय
Vijaykant Verma
🥀होती हैं कभी कभी ऐसी घटनाएं भी..
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.