दायित्व

शिखा श्रीवास्तव

दायित्व
(88)
पाठक संख्या − 8095
पढ़िए

सारांश

अपनी सीमाओं में रहकर समाज के उत्थान के लिए छोटी सी कोशिश के महत्व को दर्शाती कथा लिखने की मेरी एक छोटी सी कोशिश। उम्मीद है आप सबको पसंद आएगी।
Vineet Jain
ये ही सोच हम सब को आगे बढ़ाएगी, शानदार कहानी।
रिप्लाय
Yashas Srivastava
Nice... Shikha ji aap meri favorite writer ho coz aapki stories humesha kuch achcha sikhati hain
रिप्लाय
Mithilesh Kumari
बदलते परिवेश में पढकर अपनी पहचान बना ना सब के लिए बराबर है, अब सोच बदल लोगों को प्रोत्साहित करना चाहिए कहानी का प्रेरकसंदेश है।
रिप्लाय
प्रदीप तिवारी
खु़द के लिए चाहता वही औरों को देना भी सीख ले तो कोई समस्या ही न हो।बहुत अच्छी कहानी
रिप्लाय
Reena Sarna
nice massege
रिप्लाय
Asmi Srivastava
superb
रिप्लाय
Arun Kumar Manglam
सामाजिक स्थिति पर आपने कहानी के माध्‍यम से गहरी चोट की है, साथ ही उससे निकलने का रास्ता भी बतलाया है। घरेलू कार्य करने वाले लोगों के साथ हमारा व्यवहार अन्योनाश्रय होना चाहिए ना कि मालिक और नौकर का। वर्तमान में हमारे बच्चे इन सब से दूर रह रहे हैं यह हमारा सौभाग्य है, इन सब से दूर रहकर ही एक नए भारत का सपना पूरा हो सकता है। कहानी के माध्‍यम से समाज को बेहतर दिशा देने की कोशिश के लिए आप धन्यवाद के पात्र हैं।
रिप्लाय
Asha Shukla
bahut sunder maine apki ek kahani padhi aur phir sari kahaniyan padhne ke liye majboor ho gayi kyoki ap likhti hi itna achha ho behad prabhavshali lekhan hai
रिप्लाय
Rj Rahul
bahut khub
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.