दहेज से दग्धनारी

Kumar durgesh Vikshipt *Vaishnav*

दहेज से दग्धनारी
(25)
पाठक संख्या − 110
पढ़िए

सारांश

कुमार दुर्गेश "विक्षिप्त" 'माँ' तू अपनी बेटी को रखना स्हेज, देना पड़ेगा तुझ को भी दहेज, पिता दहेज हेतु करने लगा कालाधन इक्टठा, जिससे तिजोरी को लगता बडा़ झटका, परिवार जनों को आश्चर्य होने लगता, ये इतना ...
aishwarya anjana singh
kehne ko tu sab badi badi baat karenge jab lakhon aur karore ka dehaj milta hai sare siddhant bakwas lagte hain...I.a.s officer se saadi ka 1crore, teacher se saadi ka 15 se 20 lakh, m.n.c mei uch padasth officer ka 40 se 50 lakh, doctor ka 50 lakh....uss par bhi ladki mei koi avgun naa ho aur ladka chaye avgunu ka bhandaar hi kyun naa ho chaye sundar aur paise wali...sab kuch dene par bhi guarantee nahi ki woh pati aur sasural walon ka pyaar milega hi...sahab Sab batein hain dahej kam tu ho sakta hai par khatam nahi ho sakta...😏
रिप्लाय
Neha Mishra
उत्कृष्ट रचना 🙏🙏👌👌👍
रिप्लाय
Sudhir Kumar Sharma
चैतन्यपूर्ण
रिप्लाय
Vijay Kumar Soni
सुंदर अभिव्यक्ति
रिप्लाय
Satpal. Singh Jattan
nice thoughts
रिप्लाय
Sanjay Negi
बहुत खूब वर्णन दहेज रूपी दानव और दहेज लेने वाले दानवों पर।
रिप्लाय
योगेश
meaningful
रिप्लाय
mukesh kumar
लाजवाब रचना है शुभकामनाएं
रिप्लाय
Seema Rana
right
रिप्लाय
Naresh Gujjar
very nice
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.