दहेज प्रथा

विकास कुमार

दहेज प्रथा
(67)
पाठक संख्या − 4804
पढ़िए

सारांश

देखो जी अब हमारी बिटिया बड़ी हो गई है, कितनी सुंदर दिखने लगी है, कल तक जिसकी तोतली आवाज हमको हंसाती थी और मिश्री सी मीठी बोली पर हम फूले नहीं सिहाते थे, आज कैसे शर्माने लगी है। माँ ने अंजली की तरफ ...
मीना मल्लवरपु
सुन्दर ,बहुत सुन्दर!
Neha Sharma
भावप्रधान रचना। सूंदर लेखनी के लिए बधाई।
हरीओम कि माली हालत। अगर वह भी कहीं लाख रूपए कमा रहा होता तो लाख कमाने वाला, जमींदार औऱ उपरी कमाई वाला दामद खोज रहा होता। हो सकता है इस हालत मे भी सरकारी नौकरी वाला दामाद खोज रहा हो।
Mohit Tiwari
सत्य को प्रदर्शित किया गया है आभार
AKHILESH SHARMA
mind blowing story bro..
Ashish Sharma
बहुत खूबसूरत
सुखपाल सिंह
बहुत सुन्दर कहानी
Jainand Gurjar
acchi rachna hai....... जी आप मेरी नई कहानी"मानसिक बलात्कार" और "उसका यूँ तोतलाना" पढ़ सकते हैं।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.