दर्द-ए-वेलेंटाइन.

अरुण गौड़

दर्द-ए-वेलेंटाइन.
(106)
पाठक संख्या − 5135
पढ़िए

सारांश

....चंदू को आजतक ये फण्डा समझ नही आया की लड़किया तो अपना बचपना सालो पीछे छोड़कर जवानी मे कदम रख चुकी है फिर ये टैडी डे किस लिये, ये तो बिना मतलब का दण्ड है लडको पर। लेकिन कोई इस बात का विरोध भी तो नही कर सकता...........
Beena Awasthi
दिल को बहलाने के लिये कुछ तो चाहिये। खुद खाने को न मिला तो दूसरे को भी खाने नहीं दूँग 😢😢😢
रिप्लाय
रोहिणी गुप्ता
😂😂🤣🤣
रिप्लाय
एकता शुक्ला
हास्य और व्य़ंग्य का अच्‍छा मिश्रण।
रिप्लाय
Kavita Chaudhary
sahi hai 13 Feb tak koi n mile to 14 feb Ko Bajrang dal k jujharu aur karmath karyakrta bn jaiye
रिप्लाय
Bhawna Sinha
sahi hai bhai boht sahi hai....
रिप्लाय
आयुषी सिंह
😂😂😂😂😂😂😂😂
रिप्लाय
मनीषा सहाय
वाह..... बड़े अचछे तरीके से आपने मान मर्दन करते हुए यह निष्कर्ष दिया की अंगूर खटटे है। मेरी कहानी पिता के अवशेष जरूर पढ़ें और अपनी टिप्पणी दें
रिप्लाय
Nikki Agrawal
awesome...good sense of humour
रिप्लाय
Deepak Rathor
अति सुंदर
रिप्लाय
Blogger Akanksha SAXENA
Fantastic
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.