थोथा चना, बाजे घना

नूतन अग्रवाल

थोथा चना, बाजे घना
(2)
पाठक संख्या − 1426
पढ़िए
ब्रजेंद्रनाथ मिश्रा
आदरणीया, आपने एक कड़वी सच्चाई को बड़ी बेवाकी से प्रस्तुत किया है। हमें हर परिवर्तन जो दूसरों में चाहते है, उसकी शुरुआत खुद से करनी चाहिए। Be the change yourself that you want in others. आपने अपना प्रोफाइल तो अपडेट कर दिया है न? यह अति आवश्यक है।
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.