तेरे संस्कार

अंजुलिका चावला

तेरे संस्कार
(479)
पाठक संख्या − 91603
पढ़िए

सारांश

संस्कार डालने के लिए पाठशाला काम नहीं आती, बच्चे निर्देशों संस्कारी नहीं बनते वे माँ बाप के संस्कार ग्रहण करते हुए बड़े होते हैं।
Uma Mishra
मर्यादा से परिपूर्ण प्रेम, जिसको अभिव्यक्ति की आवश्यकता नहीं होती। 👌👌👏🌷
Anupam Shukla
बहुत ही सुंदर कहानी है।
Pravasini Satapathy
छोटी सी कहानी के माध्यम से आप रिश्तों की खूबसूरती कितना अच्छी तरह बताया.
Bharat Kumar
बहुत काम शब्दो मै बहुत कुछ कह गयी आपकी रचना. नैनो के कोने से एक महीन अश्रु की लकीर रेखित कर गई.
DINESH GILRA
सूरज की चमक सदा रहती हैं
Rashmi Gautam
रिश्तों की खूबसूरती को एक नया मोड़ दिया है। बहुत सुंदर रचना ।
Bimla Bhatt
khani acchi h prem ki maryada KO thode hi shbdoon m byan krti h.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.