तेरे बिना क्या जीना

Kuldeep Hooda

तेरे बिना क्या जीना
(11)
पाठक संख्या − 812
पढ़िए

सारांश

तेरे बिना जीना भी क्या जीना दर्द के आँसू पीना भी क्या पीना दिल को तेरी यूं आदत हुई है जैसे तू ही मेरी इबादत हुई है साँसो मे जब तू बसी है चुप रहकर लब सीना भी क्या सीना तेरी तस्वीर आँखो से ओझल नहीं ...
संतोष नायक
'दर्द के आंसू पीना भी क्या पीना, तेरे बिना जीना भी क्या जीना'। रचना बहुत पसंद आई।
रिप्लाय
सोनिया प्रतिभा
बहुत खूब
रिप्लाय
Nikita A Panchal
nice
रिप्लाय
दिनेश कुमार पाण्डेय
उत्कृष्ट रचना।
रिप्लाय
Anuradha Chauhan
वाह शानदार
रिप्लाय
Amit Bijnori
लाजबाब
रिप्लाय
Ravinder Kumar
shaandaar
रिप्लाय
mukesh kumar
उम्दा
रिप्लाय
गोपाल यादव
सुंदर रचना
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.