तेरी याद

गोपाल यादव

तेरी याद
(38)
पाठक संख्या − 280
पढ़िए

सारांश

मेहबूब की याद में
Anurag Chaturvedi
adbhut rachna Anupam abhivykti ki hai aapne
रिप्लाय
Sudhir Kumar Sharma
बहुत खूब
रिप्लाय
Raj Mayan
सुन्दर
रिप्लाय
कौशिक लोहार
बहुत खूब लिखा है गुरु जी
रिप्लाय
रौशनी शर्मा
वाह वाह 👏 गजब
रिप्लाय
Anamika suman
nice line , कभी मेरी रचनाओ पर भी निगाह डाले
रिप्लाय
करीना चौहान
best poem
रिप्लाय
किरण कोतवाल
तीन लाईने अधूरिसी लगती है.. चौथी लाईन.. तब अनायास बस तुम्हारी याद आती है.
रिप्लाय
प्रगति सिंह
बहोत खूब👌
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.