तेरा यार हूँ मैं....!!!

खुशबू जैन

तेरा यार हूँ मैं....!!!
(548)
पाठक संख्या − 54928
पढ़िए

सारांश

कईं बार जिंदगी में ऐसे लोग मिलते है जिनकी तरफ एक अजीब सा खिंचाव होता है- वो हमे मिले या न मिले ये अलग बात है.. किसी की मुस्कान दीवाना कर देती है, किसी की खुशमिजाजी देख उनकी किस्मत से रश्क होता है जिंदगी की दौड़ में वो मिले न मिले ये भी अलग बात है पर जब वो फिर से टकराते है तो पुराने लम्हों की तस्वीर सी बन जाती है हमे लगता है कि हम उन्हें कितना जानते है पर क्या हम उन्हें सच में जानते थे?
Kiran Bisht
Bina kisi Ko jaane uske baare mein koi rai nahi banani chahiye,ya kisi Ko bhi under estimate nahi karna चाहिए...truly inspirational story.
VeeNa Joshi
बहुत बढ़िया
vijay
❤️ touching स्टोरी
THANEE SAHU
मैं ना fan हो गई. really क्या story लिखी है आपने. एक हंसमुख लड़की कैसी होती है बहुत बेहतरीन तरीके से बताया आपने.
Reeta Devendra
Bahut hi sundar message jeevan ke liye, apne liye to sab jeete Hain...par kitne hain jo doosare ka jeevan savarten hai...
Renu Bansal
Very very nice story
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.