तू तो पैदा ही मनहूस हुई थी..

प्रगति त्रिपाठी

तू तो पैदा ही मनहूस हुई थी..
(27)
पाठक संख्या − 1552
पढ़िए

सारांश

मीनी सबकी बातें सुन रही थी, मीनी ने दादी से पूछा - दादी जब मैं पैदा हुई थी तब आपने क्या किया था"?
Amit Chimnani
bahut badiya
रिप्लाय
Padmini saini
जरुरत के समय का प्यार जरुरत के साथ ही समाप्त भी हो जाता है ये कैसा प्यार था जब खुद पर आयी तो मिनी मनहूस है ये बात भी दादी भूल गयी । कहानी बेहद अच्छी है,,
रिप्लाय
Sachidanand Tiwary
बचपन की यादें ताजा करने वाली मौलिक रचना। हृदयस्पर्शी रचना।
piku
Bhut acchi story h 👌👌
रिप्लाय
अंशु शर्मा
मन को छु लेने वाली कहानी👌
रिप्लाय
बीनू मिश्रा
क्या लिखूँ... मन भर आया
रिप्लाय
अमृता श्रीवास्तव
मार्मिक
रिप्लाय
Manjula Dusi
ह्रदय स्पर्षी कथा
रिप्लाय
Antima Singh
वाह
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.