तुम्हारी व्यस्तता

Sanjukta Pandey

तुम्हारी व्यस्तता
(3)
पाठक संख्या − 16
पढ़िए

सारांश

..तुम्हारी व्यस्तता ..से मेरा जी घबरा सा जाताहै...... तुम सच मे व्यस्त रहते हो......... या फिर देखना नहीं चाहते मेरी तरफ..... देखो न...मैंने ओढ ली हैं नीली चूनर भी....तुम्हारी पसंद की....... और खनकती ...
डॉ. ए सतीश
बेहतरीन रचना मैम
रिप्लाय
Sumedha Prakash
Great 💐💐💐❤
रिप्लाय
सौरभ शर्मा
वाह
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.