तुम्हारा फ़ोन आया है

अंकुर त्रिपाठी

तुम्हारा फ़ोन आया है
(137)
पाठक संख्या − 16077
पढ़िए

सारांश

"किसी को आज किसी के लिए तड़पते देखा है .... मैंने आज उसे पहले दफे रोते देखा है ....."
ritik sharma
very nice story yhi to hota h aajkl ... chlo der se hi shi smbhla to shi ... uska faisla shi tha ....
Mayank Dubey
एक दम मस्त
रिप्लाय
Krishan Viratnagar
वाह भाई लेखन की अद्भुत क्षमता है आपमे
रिप्लाय
mukesh nagar
truly a great writing skill you have! Ankur 👌👌
नितिन गुप्ता
meri real kahani se bas thoda change hai baki sab thik hai. nice working by writer.
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.