तुमसे मेरी लगन लगी है

Asha Shukla

तुमसे मेरी लगन लगी है
(801)
पाठक संख्या − 97207
पढ़िए

सारांश

अम्मा को बाहर जाते देखकर प्रेम झट से कोठरी में घुस गया और अपनी नई नवेली पत्नी को बाहों में भर लिया।तभी कोने में रखे मटके से आटा निकालती भाभी बीना की खनकदार हँसी गूँज उठी और उसी की संगत करती हुई उनकी ...
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
बहुत सुंदर, सार्थक सृजन।
आनन्द प्रकाश
Bahut hi sundar rachna hai.
रिप्लाय
Beena Awasthi
कभी कभी विवाह में हुई छोटी सी बात को दोनों परिवार अपनी हठधर्मिता से इस कदर अहं का प्रतीक मान बैठते हैं कि निर्दोष युवा जोड़ों का जीवन ही बर्बाद हो जाता है।
रिप्लाय
Pooja Alreja
bahut pyari kahani hay .aaj bhi log apnay bachchon ko apni jagir samjtay han.unki zindgi ka faislay letay samay unki bhawnao ka zara bhi dyan nahi rakhtay per is joday na bata diya ki hum ek dusray ka pyar panay ke liye kis hud tak ja saktay han
रिप्लाय
Deewan verma
अच्छा
रिप्लाय
Shaline Gupta
अच्छी कहानी।
रिप्लाय
Himanshu Mishra
very nice story
रिप्लाय
Aruna Garg
bahut pyari kahani.sachche premiyo ko koi alag nahi Ker Sakta.
रिप्लाय
SACHIN GOSWAMI
प्रेम को दर्शाती सबसे बेहतरीन रचना ।
रिप्लाय
Sonu Sharma
🌹🌟🌹🌟🌹🌟🌹🌟🌹🌹🌹🌟🔝👌🔝🌟🌹🌹 🌹 बहुत बहुत ही शानदार रचना प्रस्तुत किया है। जी आपका🌹 🌹🌹 बहुत बहुत धन्यवाद जी🌹🌹🌟👌🔝👌🌟🌹🌹🌹🌹🌟🔝👌🔝🌟🌹🌹🌹🌹🌟👌🔝👌🌟🌹🌹🌹
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.