तलाकनामा-1

Yashank Srivastava

तलाकनामा-1
(44)
पाठक संख्या − 7913
पढ़िए

सारांश

मेरी प्यारी डायरी, आज दिन रविवार हैं, और आसमान में खिली हुई धूप निकली हैं। हल्की हल्की ठंडी हवा और धूप की गरमाहट का मिश्रण एक अलग ही वातावरण बना रहा है। ऑफिस से आज ज्यादा काम था नही, तो सोचा थोड़ी देर ...
Durgesh Namdeo
हकीकत या फसाना but ♥ tuching
Hema Kandari
रो पडी इसे पढ कर अगर ये हकीकत हैं ... तो ये दर्द पराया. .. नही. . ये कहानी. परायी नही ...
रिप्लाय
Aasif Khan
I'm waiting for next part.... ❤
रिप्लाय
Leena Rakesh Rawal
heart toching kya ye restart nhi ho skta rishta bnana bhut mushkil he todna bhut easy
रिप्लाय
Rajni Chauhan
next part please
रिप्लाय
Nisha Kamle
Fir 6 Month Me Sath Rahe ya Nhi Aap
रिप्लाय
Davinder Kumar
Kahani abhi bhi adhuri lagti hai
रिप्लाय
Amar Dangi
दिल को छूने वाली कहानी है । मैं आगे के कहानी का बेसब्ररी से इंतज़ार कर रहा हु।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.