तरसती निगाहें

गौरव कुमार

तरसती निगाहें
(31)
पाठक संख्या − 3124
पढ़िए

सारांश

यही साश्वत सत्य है कि एक माता-पिता अनेक बच्चों को पाल लेते हैं लेकिन अनेक बच्चे मिलकर भी एक माता -पिता को नहीं पाल पाते ।चच्चा के प्राण पखेरू भले ही उड़ चुके थे परंतु उनकी पथरायी आँखें अब भी बेटे का इंतजार कर रही थीं।
shobhana tarun saxena
benign 👌
रिप्लाय
Usha Garg
ऐसे दिन किसी को न दिखये
रिप्लाय
Manish Kumar
very good.
रिप्लाय
राजेश मंथन
कलयुग में माँ बाप को सपूत श्रवण कुमार जैसे बेटे बड़ी मुश्किल से नसीब होते हैं। यह तो समाज की कड़वी सच्चाई है। आपकी कहानी मार्मिक है। बधाई गौरव कुमार जी ।
रिप्लाय
Neeti Pandey
nice story
रिप्लाय
Kushbu Sharma
aaj ki kahani
रिप्लाय
Reema Bhadauria
Nice 😊😊
रिप्लाय
Anju Chouhan
madrmsparshi
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.