डुप्लिकेट साड़ी

नीतू सिंह 'रेणुका'

डुप्लिकेट साड़ी
(118)
पाठक संख्या − 6963
पढ़िए

सारांश

कभी ऐसा भी हो जाता है कि बड़ी दिक्कतों से हासिल की अपनी मनपसंद चीज़ से हमें हमेशा-हमेशा के लिए घृणा हो जाए।
स्वाती श्रीरामे
very nice story ... 👌 👌 बेचारी ...😒 😒
Vimal Kumar Verma
,अच्छी लगी। और अधिक सटीक तथा चुटीले व्यंग्य की उम्मीद है।
Meena Bhatt.
😊😊😊😊😢😢 मैं तो हँस-हँस के पागल हो गई।इतनी मजेदार कहानी प्रतिलिपि में पहली बार पढ़ी।शुभकामनाएं
Asha Shukla
सटीक वर्णन!!😊😊😊😊इस नए फैशन ने खूब नाच नचाया है👌👌👌👌😊😊😊😊गजब की रचना👌👌💐💐💐
shalu sharma
हाहाःहाहा.. लाजवाब!! 👏🏻👏🏻👏🏻😄😄😄
राधिका गुप्ता
मेरे साथ भी हो चुका eaisa मैम
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.