डर

रुचिका मेहता

डर
(75)
पाठक संख्या − 11071
पढ़िए

सारांश

शायद पूरी दुनिया की कहानी हो, पर मैं अपने प्यारे देश के लिए ही बोल रही हूँ, हमारे यहाँ ना शायद जानबूझ कर लड़कियों को डरा कर रखा जाता है. बड़े शहरो की हालत शायद कुछ सुधर गयी हो, लेकिन गांव, छोटे शहर अब ...
Pawan Kumar
उस डर को पालने के बजाय उसे दूर करने की कोशिश करनी चाहिए हमें। डर के साथ जीने का मतलब हम बीमारियों के साथ जी रहे हैं।
सुखचैन मेहरा
अच्छा लिखा है बहुत ही खूबसूरत तरीके से
ricky dahiya
awesome 😍😍njr se hi pta chlta h kon kaisa h
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.