ट्रेन का आख़िरी डिब्बा

अनिता ललित

ट्रेन का आख़िरी डिब्बा
(164)
पाठक संख्या − 9965
पढ़िए
शुभम रघुवंशी
बहुत ही शानदार और मार्मिक रचना।
Ashok Sharma
अंधविश्वास को पोषित करती एक नकारात्मक रचना ! लेखिका यदि चाहती, तो कहानी का सुखांत कर स्वप्न फल से फैले अंधविश्वास पर चोट कर सकती थी । उस दशा में यह कहानी बहुतों के जीवन में आशा और उल्लास का उजियारा फैलाने में सक्षम होती ।
Niklesh Sahu
बहुत बढ़िया कहानी है
Sweta Kumari
bhtt logo ko aage hone wali ghtna ka ehsas ho jata h...jo k smay aane pr smjhh aata h ...
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.