टूटे हुए सपने

ऋचा तिवारी

टूटे हुए सपने
(287)
पाठक संख्या − 15236
पढ़िए

सारांश

अपनी आने वाली ज़िन्दगी के लिए लोग कुछ सपने देखते है ,किसी के सपने पूरे होते है पर बहुतो के सपने टूट जाते है, टूटे हुए सपनो को छोड़ नए सपने देखना और उन्हें पूरा करने का नाम ही ज़िन्दगी है.
Pallavi Vinod
बहुत ज्यादा अशुद्धियाँ हैं
रिप्लाय
Abhishek Jaiswal
Nice RICHA ऋचा जी
Priyanka Soni
बहुत सुंदर
Parinita jaiswal
nice story and the best part is husband accepted the success of a wife otherwise ofently we see there must be clash after the promotions and success of a woman
Namita Kumari
kahani k shirshak me Jo feel hai, wo kahani me nahi hai
नैना साहू
सही संदेश पर जल्दबाजी ज्यादा नजर आ रही
Chhaya Srivastava
यह कहानी कम एक वाक्या ज़्यादा है।बहुत भाग रही है कहानी।ठहराव नही है।
ajay
किस्मत पर रोने से बढ़िया कर्म करना है राह तो मिल ही जाएगी।कहानी का संदेश अच्छा लगा।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.