टूटे हुए सपने

ऋचा तिवारी

टूटे हुए सपने
(270)
पाठक संख्या − 14239
पढ़िए

सारांश

अपनी आने वाली ज़िन्दगी के लिए लोग कुछ सपने देखते है ,किसी के सपने पूरे होते है पर बहुतो के सपने टूट जाते है, टूटे हुए सपनो को छोड़ नए सपने देखना और उन्हें पूरा करने का नाम ही ज़िन्दगी है.
Namita Kumari
kahani k shirshak me Jo feel hai, wo kahani me nahi hai
नैना साहू
सही संदेश पर जल्दबाजी ज्यादा नजर आ रही
Chhaya Srivastava
यह कहानी कम एक वाक्या ज़्यादा है।बहुत भाग रही है कहानी।ठहराव नही है।
ajay
किस्मत पर रोने से बढ़िया कर्म करना है राह तो मिल ही जाएगी।कहानी का संदेश अच्छा लगा।
vinod shukla
ka likha hai koi sense hai
रिप्लाय
Ritu Pant Madhwal
khani kalpna rahit h.bahut achi lgi.dhokha kha kr rasta badal dena shi nirnay h.insan ka majboot hona bahut jruri h.
Soni Sonam sharma
aapko story bahut achhi lgi.....
रिप्लाय
ms Kamaal KAMARDAD
Good
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.