टूटे दिल

आशीष कुमार त्रिवेदी

टूटे दिल
(365)
पाठक संख्या − 66948
पढ़िए

सारांश

दिनेश ने देखा सामने लंबा जाम लगा हुआ है। उसे इंतज़ार करना पड़ेगा। हलांकि वह जल्द से जल्द पहुँचना चाहता था। लेकिन जाम के हटने तक वह कुछ नहीं कर सकता था। कोई एक घंटे पहले वह अपने ऑफिस में बैठा था जब ...
Rameshwar Yadav
Real story
रिप्लाय
Nisha Khurana
Exigent
रिप्लाय
Madhavy Choudhary
भावपूर्ण कहानी
रिप्लाय
Rita Saxena
अच्छी कहानी है
रिप्लाय
Asha Bhatnagar
फुद्दू
रिप्लाय
pradeep kumar singh
writer sir apane achha likh diya keep it up
रिप्लाय
Madhu Tyagi
कहानी रोचक है वास्तव मे सचचा दोस्त वही है जो मुसीबत आने पर तुम्हे सहारा दे सके
रिप्लाय
Meenaxi Sukhwal
nice story . mere lekhan par bhi apne vichar vyakat kare
Jyoti प्रसाद
इसके बाद क्या हुआ
Pankaj Parmar
Nice story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.