टूटी गुल्लक

Neha Sharma

टूटी गुल्लक
(12)
पाठक संख्या − 317
पढ़िए

सारांश

चबूतरे के पास इकट्ठे लोग आपस में बातें कर रहे थे कि नल से पानी भरने के बाद भी पानी ऐसे ही बहता रहता है। तभी उनमें से एक कहता है कि  - अरे हां भाई, यह बहता हुआ पानी नाली से बाहर निकल कर मेरे घर के ...
Safiya Mahmood                                      (صفیہ محمود )
Sabak Dane wali behtarin rachana 👍
रिप्लाय
Jitendra Moslapuriya
बहुत सुन्दर रचना
Anuradha Saxena
bhut khoob 👌👌👌
रिप्लाय
अजय अमिताभ सुमन
एक छोटे बच्चे का त्याग बड़ों की सूझ बूझ पर भारी पड़ा।
रिप्लाय
सोनू समाधिया 'रसिक' 🇮🇳
गागर में सागर बहुत खूब 👌
रिप्लाय
Asha Shukla
बेहद खूबसूरत और शिक्षाप्रद कहानी!!👌👌👌💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
रिप्लाय
Meera Sajwan
बहुत शिक्षाप्रद नेहा
रिप्लाय
Ridhi Goel
bahut badhiya
रिप्लाय
शशि मित्तल
संदेशात्मक कहानी
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.